खेतों में तेंदुए के पद चिह्ननों पर ग्रामीणों को किया सचेत, अधिकारियों ने सैंपल ले‌कर भेजे

वन्य प्राणी विभाग की टीम जहां पिछले 5 दिनों से जाखनदादी क्षेत्र में तेंदुए की तलाश को लेकर जंगल खंगाले लगी हुई थी वहीं मंगलवार रात्रि को शहर के फतेहाबाद रोड पर स्थित एक मैरिज पैलेस के पीछे एक कॉलोनी में तेंदुए जैसे जानवर के पाए जाने की सूचना मिलने के बाद उपरोक्त क्षेत्र के लोगों में हड़कंप मच गया। जानवरो की आशंका के अलावा संबंधित कॉलोनी के समीप खेतों में तेंदुए के पग मार्क निशान पाए जाने पर लोगों ने इसके लिए न केवल गुरुद्वारे में एक बुनियादी करवाई। जिसमें लोगों को घरों में रहने के लिए बोल दिया। साथ ही संबंधित वन्य प्राणी विभाग की टीम में पुलिस प्रशासन को भी सूचना दे दी।


उपरोक्त सूचना के पश्चात पुलिस दल के साथ बुधवार सुबह फतेहाबाद रोड क्षेत्र में पहुंची वन्य प्राणी विभाग की टीम ने क्षेत्र में तेंदुए के आने की सूचना को खारिज कर दिया लेकिन एक खेत में जाखन दादी क्षेत्र की तरह पग मार्ग मिलने पर पग मार्ग के सैंपल जांच हेतु देहरादून लैब में भेज दिए।

 पिछले 5 दिनों से वन विभाग की टीम हिसार रेंज से निरीक्षक रमेशवर दास के नेतृत्व मैं जाखंड आदि क्षेत्र के अलावा गांव मुंशी वाला तथा उसके साथ लगती मुख्य नहर में छोटी नगरों के इर्द-गिर्द जंगली क्षेत्र में सर्च अभियान चलाया हुआ है और इस अभियान के तहत कहीं भी तेंदुआ के पांव के निशान नहीं मिले हैं बताया जाता है कि कल रात्रि को शहर के फतेहाबाद रोड पर स्थित एक गुरुद्वारे में बुनियादी की गई की मैरिज पैलेस के पीछे खेतों में से जानवर के पांव के निशान पाए गए हैं और संभावित है कि उपरोक्त तीनों क्षेत्र में आ गया है 

मुनियादी के तहत क्षेत्र के लोगों को घरों में रहने तथा बच्चों को बाहर ना निकलने के लिए प्रेरित किया गया बुधवार सुबह वन्य प्राणी विभाग की टीम के प्रतिनिधि पवन कुमार के अलावा फॉरेस्ट दलजीत सिंह शहर थाना के एएसआई हरजिंदर सिंह तथा जाखंड आदि क्षेत्र के ग्रामीणों ने कॉलोनी में पहुंचकर एक खेत में अंशकित तेंदुए के पग मार्ग के निशान के सैंपल लिए और उसे जांच हेतु देहरादून लैब में भेज दिए।

उन्होंने इस बात से इंकार किया है कि इस क्षेत्र में कहीं तेंदुए के निशान नहीं पाए गए हैं। इस संदर्भ में जब जिला निरीक्षक रामेश्वर दास से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हालांकि उनकी टीम जाखंड आदि क्षेत्र में पिंजरे आदि लगाकर तेंदुए को पकड़ने के लिए सर्च अभियान चला रही है लेकिन अभी तक इसमें किसी भी प्रकार के तेंदूए होने के पुख्ता सबूत नहीं मिले हैं। इस अभियान के तहत उपरोक्त क्षेत्र के समीप बहने वाली मुख्य नहर में छोटी नहरों के जंगलों में भी अभियान शुरू कर दिया गया है