कुंभ मेले में जाने के लिए श्रद्धालुओं को उत्तरखंड सरकार के पोर्टल पर करवाना होगा पंजीकरण, जाने कैसे

फतेहाबाद। कुंभ मेले को लेकर श्रद्धालुओं में काफी उत्साह देखने को मिलता है। हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु कुंभ मेले में जाने के लिए भारत के विभिन्न कोनों से उत्तरखंड पहुंचते है। 
जिसके चलते भारत सरकार ने इस साल के मार्च-अप्रैल 2021 में हरिद्वार में होने वाले कुंभ मेले के आयोजन के लिए कोविड-19 से संबंधित मानक संचालन प्रक्रिया जारी की है। इस मेले के लिए आगंतुकों व श्रद्धालुओं को यात्रा प्रारंभ करने से पूर्व उत्तराखंड सरकार के पोर्टल पर पंजीकरण करना अनिवार्य होगा। 
साथ ही अपने मोबाइल फोन पर आरोग्य सेतु एप का उपयोग के माध्यम से पंजिकरण करवाना अ‌निवार्य होगा ताकि कोविड के संक्रमण को रोका जा सके। 
उपायुक्त नरहरि सिंह बांगड ने बताया कि इस मेले में बड़ी संख्या में आगंतुक व श्रद्धालुओं के भाग लेने की संभावना है। 
जिसके चलते 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति व 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय, फेफड़े और गुर्दे की बीमारियों से ग्रसित व्यक्ति, कम प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्ति, कैंसर, मस्तिष्क रोग से पीड़ित व गर्भवती महिलाओं को कुंभ मेला में आने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए। 
कुंभ मेला क्षेत्र में प्रवेश के लिए जो भी श्रद्धालु पंजिकरण करवाएगां उसे निर्धारित प्रारुप पर स्वास्थ्य प्रमाण - पत्र देना अनिवार्य होगा।

कुंभ मेले के लिए यह दस्तावेज व नियम जरूरी होगें

उन्होंने बताया कि आगुंतुकों व श्रद्धालुओं को कुंभ मेला क्षेत्र में प्रवेश के समय से 72 घंटे पूर्व की कोविड -19 आरटीपीसीआर नेगेटिव जांच रिपोर्ट साथ लानी अनिवार्य होगी। यह अपेक्षित है कि यात्रा से पूर्व आगुंतको व श्रद्धालुओं को कोविड -19 के बचाव व सावधानियों से आमजन को जागरुक किया जाए और सरकार द्वारा जारी हिदायतों मास्क,  समाजिक दूरी नियम व सेनिटाइजेशन की भी पालना की जाए।
कुंभ मेला-2021 की यात्रा पूर्ण होने पर संबंधित राज्य में वापस आने पर आगुंतकों व श्रद्धालुओं द्वारा अपने राज्य में निर्धारित प्रकिया के अनुसार कोविड -19 परीक्षण या सक्रिय निगरानी का अनुपालना की जाए।