👏 मेडिकल कॉलेज के लिए 25 एकड़ भूमि का हुआ चयन, ‌करोड़ो की लागत से होगा तैयार

सिरसा। जिले में सरकारी मेडिकल कॉलेज में दाखिला लेने के लिए विद्यार्थियों को अभी काफी लंबा इंतजार करना होगा। ‌मेडिकल कॉलेज की जमीन निर्धारित करने को लेकर ही प्रशासन को एक साल का समय लग गया। 

सिरसा जिले में मेडिकल कॉलेज बनाए जाने को लेकर फरवरी 2020 के बजट में घोषण हुई थी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा घोषणा किए जाने से लेकर अब तक एक वर्ष बीत गया। ओर इस एक वर्ष के दौरान जिला प्रशासन केवल भूमि का ही चयन कर पाया है। जबकि भूमि को लीज पर लेने या खरीदने की प्रक्रिया भी अभी तय नहीं हो पाई है। ऐसे में यह तैया है कि मेडिकल कॉलेज बनने व तैयार होने में काफी लंबा समय लगने वाला है। भूमि चयन होने के ‌बाद अगला कदम यह रहेगा कि भूमि को स्वास्थ्य विभाग द्वारा लीज पर लिए जाने या खरीदा जाएगा। जिसके बाद ही मेडिकल कॉलेज के निर्माण कार्य का आरंभ हो पाएगा। प्रशासन ने मेडिकल कॉलेज के लिए भूमि का चयन कर फाइल को सरकार के पास भेज दिया है। 

हरियाणा में  चल रही भाजपा जेजेपी गठबंधन की सरकार ने सिरसा में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा की हुई है।मेडिकल कॉलेज के निर्माण के लिए करीब 325 करोड़ रुपये के बजट का प्रावधान सरकार द्वारा किया गया है। 

जिला प्रशासन की ओर से 325 करोड़ की लागत से बनने वाले  मेडिकल कॉलेज बनाए जाने के लिए मिनी बाइपास स्थित चौधरी देवीलाल विश्वविद्वालय के समक्ष 25 एकड़ भूमि को चुना गया था। मेडिकल कॉलेज बनाने के लिए चयनित की गई यह भूमि हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार की है। ये भूमि इस समय कपास अनुसंधान संस्थान को लीज पर दी गई है। घोषण के एक वर्ष बीत जाने के बाद भी अभी कागजी कार्रवाई ही पूरी हुई है। इसके बाद उसे खरीदने व लीग पर लेने की प्रक्रिया अभी भी बाकी है। हालांकि यह काम भूमि चायन करने से कही अधिक मुश्किल है। 

घोषण के कुछ समय बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने मेडिकल कॉलेज के लिए जमीन देखने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों का भी निरीक्षण किया था। इसके तहत उपायुक्त, एसडीएम व सिविल सर्जन ने जिला के फूलकां, वैदवाला और केलनियां गांवो में जाकर भूमि का निरीक्षण किया था। लेकिन यातायात की सुविधा ना होने व अन्य कई कारणों से उन जगहों पर मेडिकल कॉलेज बनाने के विचार को छोड़ना पड़ा। वहीं शहर के मिनी बाईपास पर स्थित चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय के सामने हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय की भूमि का उपयुक्त माना और यहां स्थित हिसार के कृषि  25 एकड़ जगह का चयन कर लिया गया।

मेडिकल कॉलेज में यह मिलेगी सुविधाएं

मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस का कोर्स संचालित किया जाएगा। जिसमें हर वर्ष नए डॉक्टर तैयार होकर यहां से निकलेगे। मेडिकल में विभिन्न तरह की बीमारियों पर रिसर्च और पढ़ाई के लिए उच्च कोटि के प्रोफेसरों की नियुक्ति होगी। मेडिकल में विभिन्न बीमारियाें के विभाग स्थापित होंगी। जिनमें कैंसर, हड्डी रोग, आंख, कान, नाक, न्यूरो विभाग, हृदय रोग विभाग स्थापित हाेंगे। इलाज के लिए लोगों को हिसार, रोहतक या चंडीगढ़ पीजीआई में नहीं जाना पड़ेगा।

हमने मेडिकल कॉलेज बनाने को लेकर हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार की 25 एकड़ जमीन का चयन करके सभी कागजी प्रकिया पूरी करके सरकार के पास प्रस्ताव भेज दिया है।

--प्रदीप कुमार, उपायुक्त सिरसा।