मौसम जानकारी : 19 अप्रैल देर रात्रि से फिर से मौसम में बदलाव होने की संभावना

कृषि मौसम विज्ञान विभाग हकृवि हिसार द्वारा 13 अप्रैल को जारी पूर्वानुमान अनुसार ही हरियाणा राज्य के उत्तरी व पश्चिमी क्षेत्रों में पश्चिमीविक्षोभ के प्रभाव से ज्यादातर क्षेत्रों में 16 अप्रैल को व कुछ एक स्थानों पर 17 अप्रैल को धूल भरी तेज हवाएं व गरज चमक के साथ बूंदाबांदी व हल्की बारिश दर्ज की गई जिससे दिन व रात के तापमान में हल्की गिरावट हुई है।


मौसम पूर्वानुमान (18 अप्रैल से 24 अप्रैल )  पश्चिमीविक्षोभ के आंशिक प्रभाव व राजस्थान के ऊपर बनने वाले साइक्लोनिक सर्कुलेशन के कारण राज्य में 19 अप्रैल देर रात्रि से फिर से मौसम में बदलाव होने की संभावना है जिससे  राज्य  के उत्तरी व पश्चिमी जिलों में  20 व 21अप्रैल  को  बादलवाई रहने, बीच बीच में  तेज हवाएं  चलने तथा कहीं कहीं बूंदाबांदी या हल्की बारिश होने परन्तु 22 अप्रैल से मौसम खुश्क व गर्म संभावित।

मौसम आधारित कृषि सलाह 

1. मौसम में बदलाव की संभावना को देखते हुए खेतों की नमी को सरंक्षित करे व  नरमा कपास की बिजाई 2-3 दिन रोक ले। 

2. गेहूं व अन्य फसलों की कटाई व कढाई करते समय बदलते मौसम का ध्यान अवश्य रखे।

3. गेहूं की कटी हुई फसल के बंडल अच्छी प्रकार से बांधे ताकि तेज हवाएं चलने से उड़ न सके।

4. गेहूं , सरसों व अन्य फसलों को बेचने के लिए मंडी ले जाते समय तिरपाल आदि का प्रबंध अपने साथ अवश्य रखे।

5. तेज हवाएं चलने व बारिश की संभावना को देखते हुए गेहुं व सरसों की तूड़ी/भूसा आदि को अवश्य ढके व सुरक्षित स्थानों पर रखे।

नोट: कोरेना से बचाव के लिए मंडी में दो गज की आवश्यक दूरी व मुहँ को गमछे/साफे या मास्क से अवश्य ढक कर रखे।


डॉ मदन खीचड़ विभागाध्यक्ष

कृषि मौसम विज्ञान विभाग 

चौधरी चरणसिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार