38 घंटे बाद बेसुध हालत में मिले वरिष्ठ डॉक्टर, इलाज के लिए अस्पताल में कराया भर्ती

👉 पानीपत के लापता डॉक्टर घर पहुंचे:38 घंटे बाद फतेहपुरी चौक से बेसुध हालत में मिले वरिष्ठ डॉक्टर, इलाज के लिए अस्पताल में कराया भर्ती.

👉 अस्पताल ले जाने के लिए कंधे पर डालकर डॉ. सुदेश खुराना को गाड़ी में बैठाते परिजन।

👉 साईकिलिंग करने निकले डॉक्टर गुरुवार शाम 6:30 बजे हुए थे लापता, बाबरपुर के पास मिली थी साईकिल व मोबाइल

👉 फतेहपुरी चौक पर पड़ोसी ने घूमते देखा तो परिजनों को फोन कर बुलाया, पुलिस ने डॉक्टर के बयान दर्ज किए हैं

पानीपत की बरसत रोड स्थित सुप्रीति अस्पताल के मालिक और मनो रोग विशेषज्ञ डॉ. सुदेश खुराना लापता होने के 38 घंटे बाद फतेहपुरी चौक पर मिल हैं। पड़ोसी ने पहचानकर परिजनों को फोन करके बुलाया। परिजन डॉक्टर को घर ले गए। डॉक्टर अभी भी बेहोशी की हालत में थे। परिजनों का कहना है कि डॉक्टर अभी तक कुछ नहीं बोले हैं। पुलिस डॉक्टर के बयान दर्ज करने उनके घर पहुंची। तभी उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। पुलिस डॉक्टर से बात कर उनके लापता होने का कारण जानने का प्रयास कर रही है।

प्रीत विहार निवासी मनो वैज्ञानिक डॉ. सुदेश खुराना का अपना अस्पताल है। उनकी पत्नी डॉ. प्रीति डायग्नोलॉजिस्ट हैं। डॉ. खुराना गुरुवार शाम 6:30 बजे साइकिलिंग के लिए घर से निकले थे। रात 10 बजे तक वापस न आने पर उनकी पत्नी से फोन किया तो फोन स्विच ऑफ मिला। उन्होंने परिजनों के साथ उनकी तलाश की, लेकिन वह नहीं मिले।

इसके बाद पत्नी ने सिटी थाने में उनकी गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस ने शुक्रवार सुबह को डॉक्टर की साईकिल बाबरपुर के पास सागर ढाबे और मोबाइल एक ट्रक ड्राइवर से बरामद किया। पुलिस डॉक्टर की तलाश में लगी थी।

डॉक्टर के चचेरे भाई जितेंद्र ने बताया कि शनिवार सुबह करीब 9:45 बजे उसके पड़ोसी जितेंद्र मेहता का फोन आया और उन्होंने डॉ. सुदेश के फतेहपुरी चौक पर होने की बात कही। वह सभी फतेहपुरी चौक पहुंचे तो पड़ोसी ने उन्हें अपनी दुकान पर बैठा रखा था। डॉक्टर होश में नहीं थे और न ही वह कुछ बता पाए। डॉक्टर के घर आने की सूचना पर पुलिस पहुंची, लेकिन वह कुछ बता नहीं पाए। हालत ठीक न होने के कारण डॉक्टर को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

पानी पीया और परिजनों का हालचाल पूछा
चचेरे भाई ने बताया कि डॉ. सुदेश दो दिन से सोए नहीं हैं और बहुत थके हुए हैं। घर आने के बाद उन्होंने केवल पानी पीया और परिजनों का हालचाल पूछा। इसके बाद वह सोने के लिए अपने कमरे में चले गए। डॉक्टर के गुम होने के संबंध में अभी पुलिस बोलने से बच रही है।