अंत्योदय सरल पोर्टल पर सेवा देने में जिला फतेहाबाद पहले स्थान पर

 प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना अंत्योदय सरल पर ई-टिकटों के माध्यम से सेवा प्रदान करने में फतेहाबाद जिला 9.7 स्कोर के साथ पहले स्थान पर रहा है। मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी कार्यक्रम के परियोजना निदेशक डॉ. राकेश गुप्ता ने अंत्योदय सरल पोर्टल पर बेहतरीन कार्य करने पर जिला फतेहाबाद को बधाई दी है। डॉ. गुप्ता मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न महत्वाकांक्षी योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे।

परियोजना निदेशक डॉ. राकेश गुप्ता ई-ऑफिस, अंत्योदय सरल प्रोजेक्ट, सीएम विंडो, महिला सुरक्षा, आंगनबाड़ी केंद्रों व प्ले स्कूलों में प्री स्कूल एजुकेशन, सक्षम हरियाणा, पीसी एंड पीएनडीटी एक्ट तथा कुपोषण व एनीमिया को कम करने इत्यादि कार्यक्रमों व योजनाओं की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। डॉ. गुप्ता ने सरल पोर्टल के माध्यम से दी जाने वाली सेवाओं में तेजी लाने और इसमें किसी प्रकार की ढिलाही न बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सरल पोर्टल जन उपयोगी और सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं को आमजन तक पहुंचाने का महत्वपूर्ण प्लेटफॉर्म है। इस पोर्टल के माध्यम से नागरिकों को 540 से अधिक सरकारी योजनाओं का लाभ प्रदान किया जा रहा है। पोर्टल पर नागरिकों को समयबद्ध सेवाएं दी जाएं।

उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि वे ई-ऑफिस के माध्यम से ही फाइलों का निपटान करें। जिन जिलों का ई-ऑफिस पोर्टल पर फाइल निपटान का स्कोर कम है, वे इसमें सुधार करें और सभी प्रकार की फाइलें सभी विभाग ई-ऑफिस के माध्यम से ही निपटान करें। ई-ऑफिस का इस्तेमाल न करने वाले विभागाध्यक्षों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

सीएम विंडो की समीक्षा करते हुए डॉ. गुप्ता ने ओवर ड्यू शिकायतों के तुरंत समाधान करने के निर्देश देते हुए कहा कि इस पोर्टल पर आने वाले शिकायतों की एक्शन टेकन रिपोर्ट समय पर अपलोड की जाएं। लिंगानुपात में सुधार में लाने के लिए डॉ. गुप्ता ने पीएनडीटी एक्ट के तहत लिंग जांच करने वाले लोगों पर छापामारी करने के निर्देश दिए और कहा कि ऐसे लोगों की सूचना मिलने पर तुरंत टीम बनाकर तुरंत कार्रवाई की जाएं। इस काम में किसी प्रकार की कोई ढिलाही न हो। पोक्सो एक्ट के तहत अदालतों में विचाराधीन मामलों में कानूनी समत पक्ष रखते हुए दोषियों को कड़ी सजा दिलाने के लिए पैरवी करें। 

उन्होंने वन स्टॉप सेंटर बारे लोगों को जागरूक करने के निर्देश देते हुए कहा कि इस सेंटर के बारे में सभी को जानकारी होनी चाहिए, इसके लिए महिला एवं बाल विकास विभाग जागरूकता अभियान भी चलाएं। वन स्टॉप सेंटर में आने वाली महिलाओं को सरकार द्वारा निर्धारित काउंसलिंग सहित दूसरी सहायता अविलंब दी जाएं। डॉ. गुप्ता ने प्ले स्कूलों में प्री एजुकेशन, सक्षम हरियाणा, कुपोषण व एनीमिया कार्यक्रमों की भी समीक्षा की।

वीडियो कॉन्फ्रेंस में अतिरिक्त उपायुक्त डॉ. मुनीष नागपाल, सीटीएम अंकिता वर्मा, डीएसपी दलजीत सिंह, सुभाष चंद्र, सीएमजीजीए ज्योति यादव, डीआईओ सिकंदर, पीओ आईसीडीएस राजबाला, डिप्टी सीएमओ डॉ. संगीता, डॉ. गिरीश आदि मौजूद रहे।