संघ के 250 स्वयंसेवक गाँवो में करेंगे स्वास्थ्य विभाग की मदद

कोविड टेस्ट, ट्रेक और ट्रीट रणनीति को पहुंचाएंगे अंजाम तक

फतेहाबाद। ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड महामारी से निपटने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 250 स्वयंसेवक स्वास्थ्य विभाग के साथ बतौर वॉलंटियर कार्य करेंगे। जिले के करीब 100 गाँवो के 250 संघ कार्यकर्ताओं की सूची जिला प्रशासन को दी गयी है।

संघ के सह विभाग कार्यवाह सतीश समैण और जिला कार्यवाह  डॉ शैलेन्द्र सिंह ने बताया कि संघ कार्यकर्ता गॉवों में लोगों को कोविड टेस्ट के लिए प्रोत्साहित करने, टेस्ट उपरान्त कोविड पॉजिटिव मरीजों को समुचित इलाज करवाने और सोशल डिस्टनसिंग की पालना करवाने के लिए स्वास्थ्य प्रशासन का सहयोग करेंगे।

उल्लेखनीय है कि कई गांवों में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को कोविड जांच के लिए भारी विरोध का सामना करना पड़ रहा है। पॉजिटिव आने पर सामाजिक तौर पर अलग थलग होने के डर से अनेक ग्रामीण लोग अपना टेस्ट नहीं करवा रहे। इतना ही नहीं कोविड के लक्षण होने के बावजूद वे सरकारी विभाग की बजाय अपंजीकृत डॉक्टर्स से गुपचुप इलाज करवा रहे हैं। 

जिस गॉव में स्वास्थ्य विभाग की टीम सर्वे के लिए जायेगी तो उसी गांवों के स्वयंसेवक बतौर वालंटियर सहयोग करेंगे। उन्होंने बताया कि संघ ने प्रशासन को  बड़ोपल,दरियापुर,नागपुर,भट्टूकलां, रतनगढ़, जाखल, भूना व समैण खंडों के अंतर्गत आने वाले करीब एक सौ गांवों के 250 कार्यकर्ताओं की सूची सौपी है।

गांव नागपुर के स्वास्थ्य केंद्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ खण्ड नागपुर जिला फतेहाबाद के द्वारा कोरोनावायरस की रोकथाम में उपयोग होने वाली 5000 पेरासिटामोल की  गोलियां और 400 विटामिन सी  और जिंक की गोलियां  भेंट की । इस अवसर पर अनिल कुमार फार्मेसी ऑफिसर दीपक कुमार एमपीएचडब्ल्यू और  कर्मजीत कौर स्वास्थ्य कर्मी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता  विकास कुमार,  रामचंद्र,  दीपक कुमार,  सुल्तान सिंह , पवन कुमार और चाहत कुमार मौजूद रहे।  उल्लेखनीय है संघ द्वारा इससे पहले पीलीमंदोरी व रतिया के स्वास्थ्य केंद्र   में दस हजार पेरासिटामोल की गोलियां भेंट की जा चुकी है।