हरियाणा दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश में की अनेक योजनाओं की शुरूआत

हरियाणा पंचायत संरक्षण योजना के तहत श्रेणी वन अधिकारी एक-एक गांव में देखेंगे संपूर्ण विकास की रूपरेखा
-456 सेवाओं को परिवार पहचान पत्र के साथ जोड़ा
-मुख्यमंत्री के कार्यक्रम का सभी जिलों में किया गया सीधा प्रसारण
फतेहाबाद, 1 नवंबर।
हरियाणा दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेश में नई योजनाओं की शुरूआत की है। मुख्यमंत्री ने सरकार के सात साल पूरे होने पर सरकार का लेखा-जोखा प्रस्तुत करते हुए हरियाणा दिवस और दीपावली की शुभकामनाएं दी है।


चंडीगढ़ में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने पंचायत संरक्षण योजना, हर घर में नल से जल, परिवार पहचान पत्र में 456 सेवाओं को जोडऩे, हरियाणा कौशल रोजगार निगम लिमिटेड से विभिन्न विभागों में अनबुध वर्कर्स की नियुक्ती, सभी जिलों में तहसीलदारों व नायब तहसीलदारों के साथ-साथ एसडीएम व सीटीएम को भूमि रजिस्ट्रेशन की पावर देने, डीसी रेट को कौशल रोजगार निगम रेट तय करने, थानों में साइबर हेल्प डेस्क स्थापित करने, 40 वर्ष तक के पुलिस कर्मियों के चिकित्सीय चांज करने, हरियाणा इंजीनियरिंग वकर्स पोर्टल के माध्यम से ठेकेदारों की समस्याओं के निवारण करने जैसी अनेक महत्वपूर्ण घोषणाएं की।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कार्यक्रम का सीधा प्रसारण सभी जिलों में किया गया। लघु सचिवालय के सभागार में मुख्यमंत्री के कार्यक्रम को देखा गया। इस कार्यक्रम में जिला फतेहाबाद के सभी क्लास वन अधिकारी जुड़ें। मुख्यमंत्री ने सभी ग्राम पंचायतों के संपूर्ण विकास की रूपरेखा तैयार करने के लिए ग्राम पंचायत संरक्षण योजना का शुभारंभ किया। इस योजना के तहत क्लास वन अधिकारी एक-एक गांव को चयनित करके उसमें विकास की समग्र योजना का अवलोकन करेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सात सालों में हरियाणा के विकास के लिए अनेक लक्ष्य निर्धारित किए गए थे। हरियाणा की विकास यात्रा अच्छी रही है। हरियाणा में हर स्तर पर विकास को मजबूती दी गई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में धान की खरीद बेहतर तरीके से चल रही है। किसानों के लिए सिंचाई और दूसरे अन्य विकास करवाए गए है। सात साल में सरकार ने तेजी से काम किया है। 95 प्रतिशत गांवों में नल से जल पहुंचाया गया है। प्रदेश में विश्वविद्यालय की संख्या को 45 से बढ़ाकर 56 किया गया है। प्रदेश में 67 नये कॉलेज बनाए गए है। मेडिकल चिकित्सा को मजबूती देने के लिए नये मेडिकल कॉलेज बनाए गए है, जिनकी संख्या से 7 से बढ़ाकर 13 की गई है। एमबीबीएस की सीटों को भी बढ़ाकर करके 700 से 1685 किया गया है और भविष्य में एमबीबीएस की 2500 सीट का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि प्रतिवर्ष दो हजार नये चिकित्सक प्रदेश को मिले, इसके लक्ष्य के साथ चल रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि नौकरियों में मैरिट को प्राथमिकता दी गई है। युवाओं के लिए वन टाइम रजिस्ट्रेशन पोर्टल पर पंजीकरण की शुरू की गई है। क्लास सी व डी में साक्षात्कार को खत्म किया गया है। पेपर लीक माफिया पर सख्ती बरतते हुए सरकार ने अनेक कड़े कदम उठाए है।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा में 24 घंटे बिजली मिले, इसकी शुरूआत वर्ष 2016 में की गई। आज प्रदेश के 5485 गांवों में 24 घंटे बिजली दी जा रही है जो 77 प्रतिशत है। हर खेत में पानी पहुंचाने के लिए योजनाबद्ध तरीके से काम किया गया है। हरियाणा अलग-अलग सेक्टर में नंबर वन पॉजिशन पर है। भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाते हुए पारदर्शी सरकार के तहत ई-गवर्नेस की शुरूआत की गई है।
वीडियो कॉन्फ्रेंस में उपायुक्त महावीर कौशिक, अतिरिक्त उपायुक्त अजय चोपड़ा, आरटीए सचिव शालिनी चेतल, एसडीएम राजेश कुमार, जिप सीईओ कुलभूषण बंसल, रोडवेज जीएम रणसिंह पूनिया, अधीक्षण अभियंता ओपी बिश्रोई, कार्यकारी अभियंता मंदीप सिंह, कृष्ण गोयत, सीएमओ डॉ. वीरेश भूषण, डीडीएएच डॉ. काशी राम, डीडीए डॉ. राजेश सिहाग, बीडीपीओ संदीप भारद्वाज सहित क्लास वन अधिकारी मौजूद रहे।